मोदी के महाभारत के ‘शल्य’ बयान पर यशवंत का पलटवार, कहा-मैं ‘भीष्म पितामह’ हूं

मोदी के महाभारत के 'शल्य' बयान पर यशवंत का पलटवार, कहा-मैं 'भीष्म पितामह' हूं
मोदी के महाभारत के ‘शल्य’ बयान पर यशवंत का पलटवार, कहा-मैं ‘भीष्म पितामह’ हूं

देश में इन दिनों भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर घमासान मचा हुआ है। बुधवार को पीएम मोदी ने देश की आर्थिक स्थिति की आलोचना करने वालों पर जमकर वार किया। मोदी ने कहा कि कुछ लोगों की आदत महाभारत के ‘शल्य’ की तरह होती है, जो हमेशा निराशा में ही रहते हैं। जिसके बाद पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा ने पीएम पर जवाबी हमला बोला है।

पीएम मोदी के शल्य वाले बयान पर सिन्हा ने जवाब देते हुए खुद को भीष्म बताया है। उन्होंने कहा, “पीएम मोदी ने ‘शल्य’ का जिक्र है। मैं ‘भीष्म पितामह’ हूं। किसी भी कीमत पर अर्थव्यवस्था का चीर-हरण नहीं होने दूंगा।” यशवंत सिन्हा ने मीडिया से बातचीत में ये बातें कही।

दरअसल, बुधवार को द इंस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरीज ऑफ इंडिया के गोल्डन जुबली समारोह में मोदी ने आर्थिक नीतियों पर हो रही आलोचना का आंकड़ों के साथ जवाब दिया था। मोदी ने कहा था कि कुछ लोग ‘शल्य’ प्रवृत्ति के हैं, जिनकी आदत निराशा फैलाने की होती है और ऐसे लोगों की पहचान करना काफी जरूरी है।

आईए जानते हैं किन-किन चीजों पर पीएम ने बोला

ग्रोथ पर मोदी ने कहा, “देश में जून के बाद 2 महीनों के बाद पैसेंजर कारों की बिक्री में अगर 12 फीसदी वृद्धि हुई है तो आप उसे क्या कहेंगे? जब आपको पता चलेगा कि जून के बाद कमर्शियल गाड़ियों की बिक्री में 23% से ज्यादा वृद्धि हुई है, दोपहिया वाहनों की बिक्री में 14% से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है, डोमेस्टिक एयर ट्रैफिक में 14% की वृद्धि दो महीनों में हुई है। हवाई जहाज के जरिए माल ढुलाई में 16% की वृद्धि हुई है, टेलीफोन सब्सक्राइबर में 14% से ज्यादा वृद्धि हुई है। ग्रामीण डिमांड को देखें तो ट्रैक्टर की बिक्री में 34% से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है।”

डेवलपमेंट पर मोदी ने कहा, “पिछली सरकार के आखिरी तीन सालों में गांवों में 80 हजार किलोमीटर सड़क बनी थी। हमारी सरकार ने तीन साल में एक लाख 20 हजार किलोमीटर सड़क बनाई है। 34 हजार किलोमीटर से ज्यादा नेशनल हाईवे बनाने का काम किया। पिछली सरकार ने इसमें 15 हजार किलोमीटर का काम किया था। पिछली सरकार के आखिरी 3 साल में 1100 किलोमीटर नई रेल लाइन बनी थी। हमारी सरकार ने 2100 किलोमीटर से ज्यादा रेल लाइन बिछा दी है। पिछली सरकार में 1300 किलोमीटर लाइन का दोहरीकरण हुआ, हमारी सरकार ने 2600 किलोमीटर रेल लाइन का दोहरीकरण किया। साथियों! एक लाख उन्चास हजार करोड़ का कैपिटल एक्सपेंडेचर किया गया, पिछली सरकार के कार्यकाल में, हमने 2.64 लाख हजार करोड़ का एक्सपेंडेचर किया।”

बचत पर मोदी बोले, “पिछली सरकार में एलईडी की कीमत 350 थी। इस साल में ये बल्ब 40-45 रुपए में मिल रहा है। 26 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब बांटे गए हैं। एक बल्ब की कीमत में ढाई सौ की कमी माने तो मध्यमवर्ग के साढ़े छह हजार करोड़ रुपए बचे हैँ। बिजली की खपत कम हुई है। इससे भी एक साल में 14 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की राशि की बचत हुई है। टोटल करीब 20 हजार करोड़ रुपए की बचत हुई है।”

FDI पर मोदी ने कहा था, “92 के बाद उदारीकरण का काम शुरू हुआ। 1992 से माना जाए तो कंस्ट्रक्शन सेक्टर में अब तक के टोटल विदेशी निवेश का 75% केवल इस तीन साल में आया। एयर ट्रांसपोर्ट सेक्टर में टोटल निवेश का 69% पिछले तीन सालों में आया है। माइनिंग सेक्टर में एफडीआई का 56% इन तीन सालों में आया। कम्प्यूटर, सॉफ्टवेयर, हार्ड वेयर में एफडीआई का 63% इन्हीं तीन साल में आया। रिन्यूएबल एनर्जी में 49% इन्हीं 3 सालों में आया है। टेक्स्टाइल में 45% 3 साल में आया है। ऑटोमोबाइल सेक्टर में भी कुल FDI का 44% इन्हीं तीन सालों में आया।”

 

 

About Author:

Leave a Reply